Sunday, November 11, 2012

RAGA 'MARU BIHAAG' IN HINDI FILM:'EK RAAZ'(1963)

KISHORE KUMAR

MAJROOH SULTANPURI


video
Kishore kumar has sung this classical melody  based on raga'Maru Vihaag' with perfection,doing  full justice with the raga.The befitting lyrics are written by Majrooh Sultanpuri keeping the 'mukhada'of the song"payal waali dekh naa" matching with the traditional 'khayal' of raga 'Maru- Vihaag' "Rasiya ho naa..".The music is composed by veteran music director of Hindi films : Chitragupa.This song is picturised on Kishore Kumar himself and dancing heroine of the film Jamuna.
The song is:     लचकत चमकत चलत कामिनी 
                          दहिगुन दमकत चपल दामिनी 
                       अरी ओ पल छिन रुक जा ,रुक जा, रुक जा।।
                               "पायल वाली देख ना।"
                       यहीं पे कहीं दिल है पग तले आये ना।
                                  पायल वाली देख ना।।
                           जैसे दामिनिया बदरा में उड़े , 
                           कुछ दूर चले फिर जा के मुड़े ।
                               उठा रे नयन कजरारे,
                        तू इतना समझ के किसी की लगे हाय ना।
                                 पायल वाली देख ना ।।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   कित झूम चली मदिरा सी पिए।
                          मतवारी पवन अंचरा में लिए।
                            ज़माना है यूँ ही मस्ताना,
                देखो जी कहीं रुत बिन काली घटा छाये ना।।
                              पायल वाली देख ना ...।।                     
कहीं ऐसा ना हो कोई बात बने ,अंगड़ाई मेरी तेरा नाच बने ।
नाचो री  ना बन के चकोरी ,घुँघर कहीं धड़कन मेरी बन जाए ना।।
                              पायल वाली देख ना...||
Music Director:CHITRAGUPTA

Sunday, November 4, 2012

RAAGMALIKA IN HINDI FILM: 'HAMRAAZ' (1967)

video
Asha Bhosle


Music Director:RAVI

Mahendra Kpoor


Lyricist:SAHIR LUDHIYANAVI
This raagmala is composed for a stage show in the film picturized on Sunil Dutt and Mumtaz.The situation is a stage ballet based on the stories of Heer-Ranjha,Saleem-Anarkali and Romeo-Juliet's love stories.. .Music director Ravi has composed the lyrics of Sahir using Raagas: Pahadi,Yaman Kalyan,Shuddha Kalyan,Bhairavi and Khammaj in a sequence, for different parts of the stories.The song begins in raga Pahadi :

              "तू हुस्न है मैं इश्क हूँ ,
                तू मुझमें है मैं तुझमें हूँ ।
                मैं इससे आगे क्या कहूं ,
                तू मुझमें है मैं तुझमें हूँ ।।"

The next part is in raga Yaman Kalyan:

               "ओ सोनिये ओ मेरे महिवाल,
                 आजा ओय आजा ।
                 पार नदी के मेरे यार का डेरा,
                 यार का डेरा ओय यार का डेरा ।
                 तेरे हवाले रब्बा दिलवर मेरा,
                 दिलवर मेरा ओय दिलवर मेरा ।।
                 रात बला की बढ़ता जाए लहरों का घेरा ।
                 कसम खुदा की आज है मिलना मुश्किल मेरा ।।
                 खैर करीं रब्बा रब्बा खैर करीं रब्बा ।
                 ओ साथ जियेंगे साथ मरेंगे,यही है फ़साना।।
                  तू हुस्न है मैं इश्क हूँ ....||"

Next story of Saleem and Anarkali is in Raga Shuddha Kalyan:

                " कहाँ सलीम का रूतबा कहाँ अनारकली।
                   ये ऐसी शाखे तमन्ना है जो कभी ना फली।।
                   न बुझ सकेगी बुझाने से अहले दुनिया के।
                   वो शम्मा जो तेरी आँखों में मेरे दिल में जली।।
                   हुज़ूर एक न एक दिन ये बात आएगी ,
                   के तख्तो ताज भले हैं कि एक कनीज़ भली ।।
                   मैं तख्तो ताज को ठुकरा के तुझको ले लूँगा,
                   के तख्तो ताज से तेरी गली की ख़ाक भली।।
                   साथ जियेंगे साथ मरेंगे यही है फ़साना।
                   तू हुस्न है मैं इश्क हूँ .......।।"

The last part is story of Romeo-Juliet composed in Raga Bhairavi:

                 "फ़सीलें इतनी ऊँची और पहरा इतना संगी है।
                   जिआले रोमियो तू किस तरह पंहुचा बगीचे में ।।
                   ये मेरी जूलिएट के शोख चेहरे की शुआयें हैं ।
                   की आधी रात को सूरज निकल आया दरीचे में ।।
                   मेरा कोई बझी शिक्चा तुझे पा ले तो फिर क्या हो?
                   ये सब बातें वो क्यों सोचे जिसे तेरी तमन्ना हो ।।
                   खुदा के वास्ते ए रोमियो इस जिद से बाज आजा ।
                   कज़ा आने से पहले मेरे पास ए दिलनवाज़ आजा ।।

 Now remaining part of this story is in Raga Khammaj:

                   "तुझे जिद है तो प्यारे देख मैं दीवानावार आयी ।
                     तू जब बाहों में आयी दिल की दुनिया में बहार आयी ।।
                     साथ जियेंगे साथ मरेंगे यही है फ़साना,
                     तू हुस्न है मैं इश्क हूँ तू मुझमें है मैं तुझमें हूँ ।।"