Friday, February 27, 2009

THUMRI SONGS (HINDI) IN FILMS


video
video
  1. ठुमरी singing which was limited for a class of audience only who could attend music concerts and mehfils, was made popular among the common people by our हिंदी सिनेमा .The music directors of Hindi films composed thumri songs whenever they got a proper situation in the story.Thus a rich heritage of thumris is available ,if we reinvestigate the songs composed for Hindi films.The talent of many reputed vocalists of Hindustani Classical style were occasionally also used by Music Directors of Hindi Films, for such thumri compositions ,if the situation in the film allowed for it. Thus we have artists such as उस्ताद बड़े ग़ुलाम अली खान , बेगम अख्तर , बिरजू महाराज , निर्मला देवी , लक्ष्मी शंकर , शोभा गुर्टू ,परवीन सुल्ताना , कृष्ण राव चोनकर , आरती अंकलीकर , अजोय चक्रवर्ती ,etc. singing for films also. The story of persuading Ustad Bade Ghulam Ali Khan for playback singing for the character of Tansen , in film ‘मुग़ल -ऐ -आज़म ’ (1960) is well known.He first refused flatly to music director of the film नौशाद but when producer-director के .आसिफ insisted, he asked for Rs.25000 as fees for each song so that he himself may withdraw. But K.Aasif accepted his proposal and Ustad sang the famous ठुमरी “प्रेम जोगन बन के …” in राग सोहनी -ललित for this film.Similarly सत्यजित राय in his famous Bangla movie ‘जलसा घर ’(1959) showed on screen बेगम अख्तर herself singing a पीलू ठुमरी “भर भर आयी अँखियाँ …”. Also when Ray produced हिंदी फिल्म ‘शतरंज के खिलाडी ’ he used the voice of बिरजू महाराज for a ठुमरी in राग खम्माज ,’कान्हा मैं तो पे वारी ..’ picturised on a कत्थक dancer in the court of नवाब वाजिद अली शाह . Here I am giving a few of the thumris from the Hindi films:(1). बाबुल मोरा नैहर छूटल जाय - के .एल .सहगल - स्ट्रीट सिंगर -(१९३४)- भैरवी (2). चंदा देस पिया के जा -अमीर बाई कर्नाटकी -भर्तृहरि -(१९४४)-हेमंत (3) साँझ भई नहीं आये --निर्मला देवी -शमा परवाना -(१९५५)-पहाड़ी (4) लागी नहीं छूटे राम -लता ,दिलीप कुमार - मुसाफिर -(१९५८) – भैरवी (5) चले जैहो बेदर्दा - राजकुमारी - बेक़सूर –( १९४९) – पीलू (6) आये ना बालम वादा.. - रफ़ी - शबाब -( १९५४) - भैरवी (7) सैयां जाओ जाओ तोसे न बोलूं .. -लता –झनक झनक पायल बाजे -(१९५५)- देश (8) कजरारी मतवारी तोरी .. - राजकुमारी - नौबहार -(१९५४) – देश  (9). बाजूबंद खुल खुल जाये -लता –बाजूबंद -(१९५४) -भैरवी   (10) कैसे जाऊं जमुना के तीर.... -लता - देवता -(१९५६) - भैरवी  (11). बाट चलत नयी चुनरी ... -गीता रॉय   – लड़की -( १९५३) -भैरवी  (12) बाट चलत नयी .. –रफ़ी ,कृष्ण राव - रानी रूपमती –( १९५९) -भैरवी (13)  सजना  काहे  नाही  आये ..-ग़ुलाम  मुस्तफा  खान - बदनाम  बस्ती -भैरवी  (14). तुम  क्या  जानो .. .. – लता  –शिन  शिनाकी  बूबला  बू - 1952- जौनपुरी (15) बलमा  अनाड़ी  मन  भाये  –लता  - बहूरानी  - 1963 - हेमंत  (16). प्रेम  जोगन बन के .... - उस्ताद  बड़े  ग़ुलाम  अली  खान  - मुग़ल -ऐ -आज़म - 1960 - सोहनी -ललित  (17) जा  मैं  तोसे  नाही  बोलूं  – लता  –सौतेला  भाई - 1962 - अडाना  (18)  चाहे  तो  मोरा  जिया  - लता  - ममता  - 1966 - पीलू  (19) काहे  कान्हा  करत  बरजोरी  –लक्ष्मी  शंकर -बावर्ची - 1972 -खम्माज  (20) रस  के  भरे  तोरे  नैन  सांवरिया ...- हीरा  देवी  मिश्र  – गमन  -1972 - भैरवी  (21) लागा  चुनरी  में  दाग - मन्ना  डे  –दिल  ही  तो  है -1963 – भैरवी  (22)  ना  जा  ना   जा  परदेसी  - सुमित्रा  लाहिरी  - त्यागपत्र  - -जंगला  भैरवी  (23)  आये  न  बालम  का  करूँ - येसुदास  - स्वामी  -1977- –भैरवी  (24) छोटा  सा  बालमा  -आशा  भोसले  -रागिनी  - -तिलंग  (25)  आयी  ऋतु  सावन  की -भूपेंद्र ,मधुरानी - आलाप   -1973 - देश  (26)  ठाड़े    रहियो  ओ   बांके  यार  हो ... – लता  - पाकीजा  - 1971 -मांड  (27)  नजरिया  की  मारी  मरी मोरी ...   – राजकुमारी  – पाकीजा  - 1971 - पीलू  (28)  भर  भर  आयी  अँखियाँ - बेगम  अख्तर  –जलसा  घर (बंगला फिल्म ) -1959 – पीलू  (29)  कौन  गली  गयो  श्याम  - परवीन  सुल्ताना  – पाकीजा   - 1971 –खम्माज  (30)  हमें  तुमसे  प्यार  है कितना .. – परवीन  सुल्ताना  - कुदरत  - 1981 – भैरवी  (31)  आन   मिलो  सजना  - परवीन  सुल्ताना , अजोय  चक्रवर्ती - ग़दर -2003 -खम्माज  (32). कान्हा  मैं  तो  पे  - बिरजू  महाराज -शतरंज  के  खिलाडी -1977 -खम्माज  (33) छबि    दिखला  जा  - रेवा  मुहुरी  –शतरंज  के  खिलाडी -1977 -खम्माज  (34) नैना  ढूंढें  तोहे  श्याम रे ...- मन्ना  डे  – दिल  की  राहें  - 1973 - काफी  (35)  लागी  नाही  छूटे  – लता  , मीना कपूर  - सौतेला  भाई  - 1962 - भैरवी   (36) चली  पी  के  नगर  –आरती  अंकलीकर  – सरदारी  बेगम - -भैरवी  (37) फूल  गेंदवा  न  मरो - मन्ना  डे  – दूज  का  चाँद - 1964 –भैरवी  (38) बाबुल  मोरा  नैहर  – जगजीत , चित्रा  सिंह - आविष्कार  - 1973- भैरवी  (39)  साँवरा   रे  तोरे  नैना लागे  –संध्या  मुख़र्जी  – ममता  -1966 – शिवरंजिनी  (40)  मोरा सैय्या  सौतन  घर जाए  - वाणी  जयराम  – पाकीज़ा  - 1971 - पहाड़ी  (41)  सैय्याँ    रूठ  गए   –शोभा  गुर्टू  - मैं  तुलसी  तेरे  आँगन  की  -1978-पीलू   (42) मोरे  सैय्याँ   बेदर्दी  – शोभा  गुर्टू  – फागुन   - 1973 - भैरवी (43). हटो  काहे  को  झूठी  – मन्ना  डे  - मंजिल  - 1959 -भैरवी  (44)  गोरी  तोरे  नैन काजर बिन कारे .. - रफ़ी  , आशा  - मैं  सुहागन  हूँ  - 1964 - देश  (45)  बैंयां  ना  धरो  बलमा  – लता  - दस्तक  - 1973 -नट  भैरव  (46)  नज़र  लागी  राजा तोरे बंगले पे ..  - आशा  भोसले  – काला  पानी  -1958 - विहाग  (47)  आयो  कहाँ  से घनश्याम ... - मन्ना  डे    - बुड्ढा  मिल  गया  - 1971 - खम्माज  (48)  हेराई  आयी  कंगना नदिया किनारे ...  -लता  - अभिमान  -1973 - पीलू  (49)  जाओ  ना  सताओ  रसिया ... – लता  – रूप  की  रानी  चोरों  का  राजा  -1961-बागेश्री  . (50)  जा  जा  रे  जा  बालमवा....     - लता  – बसंत  बहार  - 1956 - बागेश्री  (51)  राधिके  तूने  बंसरी  – Rafi - बेटी  बेटे  - 1964 - अडाना  (52)  क़दर  जाने  ना मोरा बालम ... - लता   - भाई  भाई  - 1956 - भैरवी  (53)  बालमवा  नादान  - लता  - आराम  - 1951 - भैरवी  (54) छाई  कारी  बदरिया  बैरनिया  हो  राम ..-लता - जीवन  ज्योति -1953-पीलू  (55). मोरे  कान्हा  जो  आये  पलट  के , उनसे  खेलूंगी  होरी ..-आरती  अंकलीकर -सरदारी  बेगम  -2004- पीलू  (56). मोरे  सैंयाँ  जी  उतरेंगे  पार  हो  -लता   - उड़न  खटोला -1955-पीलू ( 57).ढलती  जाए  चुनरिया  हमारी ...-आशा  भोसले -नौ  दो  ग्यारह -1959-पीलू  (58).ठंडी  ठंडी  सावन  की  फुहार ...-आशा  भोसले  - जागते  रहो  -1956-तिलक  कामोद ( 59).सखी  कैसे  धरूँ  मैं  धीर ..-लता - कवि  कालिदास -1959- तिलक  कामोद (60).सखी  री   सुन  बोले  पपीहा  उस  पार ..-लता , आशा  - मिस  मेंरी  - 1957- तिलंग  (61) सजन  तोरी  प्रीत  रात  भर  की . .-आशा  भोसले - सगाई - -सोहिनी  (62).तुम  काहे  को  नेहा  लगाये ..-आशा  भोसले - जासूस - - तिलंग  (63).बड़ी  देर  से  मेघा ...-आशा  भोसले - नमकीन  - -तिलक  कामोद  (64) मैंने  रंग  ली  आज  चुनरिया ..-लता  -दुल्हन  एक  रात  की  -1966- पीलू  (65). घर  नाहीं  हमरे  श्याम .. -आरती  अंकलीकर - सरदारी  बेगम  -2004-गौड़  सारंग  (66) का  से   कहूं  मन  की  बात ..- सुधा   मल्होत्रा  -धूल  का  फूल -1959- काफी (67) काहे  गुमान   करे  री  गोरी ...-के .एल .सहगल -तानसेन -1943-पीलू  (68) कोई  रोके  उसे  और  यह  कह  दे - अमीरबाई  कर्नाटकी  -सिन्दूर -तिलक  कामोद (69)  सौतन  घर  न  जा ..-राजकुमारी -वारिस -1959-तिलक कामोद .(70) आजा पिया मोहे निंदिया ना आये ..-संध्या मुखर्जी -आलोर पिपासा -1965-बागेश्री .(71) तड़प  तड़प  सगरी  रैन  गुजारी -अमजद  खान -शतरंज  के  खिलाडी -1977-पीलू  (72) पिया  बिन  नहीं  आवत  चैन ..-के .एल .सहगल -देवदास -1935 -झिंझोटी  (73)  रो  रो  नैन  गवाओं  सजनवा  आन  मिलो ..-अशरफ  खान -बागवान  -1938-मिश्र  शिवरंजनी (74)  बार  बार  तोहे  क्या  समझाए  पायल  की  झंकार ..-लता ,रफ़ी  -आरती -1962-मिश्र  खम्माज   (75)  दो  नैना  मतवारे  तिहारे  हम  पर ..-के .एल .सहगल - माय  सिस्टर -1944-शुद्ध  कल्याण   (76) बालम  आये  बसों  मोरे  मन  में ...-के .एल .सहगल  - देवदास -1935-काफी (77)  ना  तोड़ो   पिया  लाज  का  बंधन ...-सलमा  आगा  -शीशे  का  घर -1983-मिश्र  सोहिनी (78)  सजन  संग  काहे  नेहा  लगाय ..-लता  -मैं  नशे  में  हूँ -1959-तिलंग (79)पा लागूँ कर जोरी श्याम मोसे ना खेलो होरी - लता मंगेशकर - आपकी सेवा में -1947 - पीलू (80)पिया के आवन की मैं सुनत खबरिया -उस्ताद अमीर खान-क्षुधित पाषाण-1958-खम्माज.(81)डारे जा,डारे जा ,डारे जा रंग... -शुभ्रा  गुहा -यात्रा -2007-भैरव्  .(82) जाओ जी जाओ .करो ना झूठी बतिया तुम तो बड़े हरजाई -शुभ्रा गुहा,अदिति भट्टाचार्य  -यात्रा - 2007-मिश्र खम्माज. (83)मोरी अँखियाँ ढूंढ रही -शुभ्रा गुहा - यात्रा -2007- मिश्र पीलू .(84) भोर भई ना आये  पिया ..-शोभा जोशी -हजारों ख्वाहिशें ऐसी - -भैरवी .(85)ढाई श्याम रोक लई...काहे छेड़ छेड़ मोहे ...-श्रेया घोषाल -देवदास -  -बसंत बहार (86)ठहरो ज़रा सी देर तो आखिर चले ही जाओगे ..-गीता  दत्त - सवेरा -  -बिलावल .(87) सुनो सजना पपीहे ने कहा सबसे पुकार के ..- लता - आये दिन बहार के -    - बिलावल . (88)हे बंधन बांधो ..-शोभा गुर्टू -पाकीज़ा -1971- भूपाली .(89)सैया हो तोसे लागे नैना ..- रफ़ी, आशा भोसले - नयी राहें -    -भैरवी .( 90) कान्हा बैरन हुयी बांसुरी....-रेखा भारद्वाज -वीर -2009 - मिश्र खम्माज  . (91)तडपे बिन बालम मोरा जिया -शुभरा गुहा - यात्रा -2007- दादरा .(92)ना  बजैहो ना बजैहो श्याम बैरन बांसुरी ...-लता मंगेशकर -आलोर पिपासा -1965-जंगला  भैरवी.(93)घिर आयी बदरिया पिया नहीं आये...-लता मंगेशकर -आलोर पिपासा -1965-शहाना.(94)बलमा बड़ा नादान रे ...-लता मंगेशकर -अलबेला -1953-भीमपलासी (95)मोरे अंगना आये री घनश्याम...-लता मंगेशकर -नरम गरम -    -भीमपलासी (96)जाओ जाओ नन्द के लाला तुम झूठे ..-लता मंगेशकर -रंगोली -1962-बागेश्री (97)अब तो सजन घर आ जा ..-लता मंगेशकर -झनक झनक पायल बाजे -1955-पीलू (98)जिया नहीं लागे का करू सजना -लता मंगेशकर -सौ साल बाद -1964-अभोगी .(99)चले आओ सैय्याँ पडू मैं तोहरे पैय्यां...-श्रेया घोषाल -खोया खोया चाँद -2005-देस (100)बाजूबंद खुल खुल जाए ...-              -बनारस -2003- भैरवी (101)तुम्हारी अदाओं पे मैं वारी वारी ....-               -मंगल पाण्डे-2009- दरबारी .(102)बेईमान तोरे नैनवा निंदिया ना आये ..-लता मंगेशकर-तराना -1954-मिश्र खम्माज.(103)मोरी बाली रे उमरिया अब कैसे बीते राम..-लता मंगेशकर -1964 -मिश्र खम्माज.(104)कान्हा कान्हा आन पडी मैं तेरे द्वार..-लता मंगेशकर -शागिर्द -1966-खम्माज.(105)अब आगे तेरी मर्ज़ी ...-लता मंगेशकर -देवदास -1955-मारू विहाग.(106)चली गोरी पी से मिलन को चली..-हेमंत कुमार -एक ही रास्ता -1955-सिन्धु भैरवी.(107)दिल लगा के क़दर गयी प्यारे ..-आशा भोसले -काला पानी-1958- मिश्र पीलू.(108)रैना बीती जाए श्याम ना आये ..-लता मंगेशकर -अमर प्रेम -1968-गुर्जरी तोडी.(109)झूठे नैना बोले साँची बतिया ..-आशा भोसले -लेकिन -1993-बिलासखानी तोडी.(110)जा रे बदरा बैरी जा रे ..-लता मंगेशकर -बहाना -1961-यमन कल्याण.                                                                 video  video video

3 comments:

Ashish said...

Excellent work....i liked your blog very much and i wish good luck for your work...keep posting more n more articles..

mukesh said...

Its very nice about incredible music.thanks and best wishes to al of u.

krishnamohan mishra said...

प्रिय डाक्टर मिश्र,
अचानक आपका विद्वतापूर्ण LIFE AND MUSIC देखा और सुना | आपने अत्यन्त परिश्रम से फिल्म गीत संकलित किया है और रागों की कसौटी पर सटीक मूल्यांकन भी किया है | विगत चार दशकों से संगीत प्रस्तुतियों पर दैनिक पत्रों में नियमित रूप लिखने का प्रयत्न करता रहा हूँ |
आपकी टिप्पणियों को पढ़ कर आपके मार्गदर्शन की अपेक्षा जागृत हो गई है | यूँतो फिल्म संगीतकार गीतों में रागों का प्रयोग प्रायः बहुत सावधानी से नहीं करते | चूँकि यह सुगम संगीत की विधा है, अतः उन्हें ऐसे प्रयोग के लिए छूट अनुमन्य भी है |
फिल्म 'कालापानी' (१९५८) का अत्यन्त लोकप्रिय एक गीत है- 'नज़र लागी राजा....'| इस गीत में 'बिहाग' और 'खमाज' रागों का तथा फिल्म 'बसन्त बहार' का गीत- 'जा जा रे बालमवा.....' में 'बागेश्री' तथा 'झिंझोटी' दोनों रागों भ्रम होता है?
कृपया मेरा मार्गदर्शन करें, आभारी रहूँगा |
कृष्णमोहन मिश्र, लखनऊ
upjanews@gmail.com